NAT शब्द का इस्तेमाल कई क्षेत्रों में किया जाता है जिनमें शिक्षा, हवाई परिवहन और स्वास्थ्य विभाग में किया जाता है। मगर जिस एन.ए.टी. शब्द के बारे में इस पोस्ट में लिखा गया है वह इंटरनेट से संबंधित है।

NAT का Full Form क्या होता है?

NAT फुल फॉर्म “नेटवर्क एड्रेस ट्रांसलेशन” (Network Address Translation) है। NAT एक इंटरनेट मानक है जिसका उपयोग एकल नेटवर्क या नेटवर्क के समूह के एकल आईपी पते के रीमैपिंग के लिए किया जाता है। यह कुशलता से एक स्थानीय क्षेत्र नेटवर्क (LAN) को यातायात के आंतरिक उपयोग के लिए IP पतों के एक सेट और यातायात के बाहरी उपयोग के लिए एक और सेट का उपयोग करने में सक्षम बनाता है।

यह कार्यप्रणाली आईपी डेटा-ग्राम के पैकेट हेडर में नेटवर्क एड्रेस की जानकारी को संशोधित करती है, जिससे ये पैकेट हेडर ऐसे दिखते हैं जैसे वे NAT गेटवे से ही आ रहे हों। और यह आगे सुनिश्चित करता है कि रिटर्न पैकेट सिस्टम फ़ायरवॉल द्वारा अवरुद्ध न हो। NAT का उपयोग उस समय भारी हो जाता है जब ISP द्वारा प्रदान किए जाने वाले IP पते की संख्या उपयोग में कंप्यूटर की संख्या से कम हो। ऐसी स्थिति में, एन.ए.टी. का उपयोग किया जाता है ताकि हर कंप्यूटर इंटरनेट तक पहुंच प्राप्त कर सके।

NAT मुख्य रूप से स्रोत IP पते और स्रोत TCP या UDP पोर्ट से संबंधित है। एन.ए.टी. विभिन्न तरीकों से उपयोगी हो सकता है जैसे कि किसी संगठन को बाहरी IP पते के साथ विरोध किए बिना आंतरिक रूप से कई IP पते का उपयोग करने की अनुमति देना, या किसी संगठन को एक अकेला इंटरनेट कनेक्शन में कई ISDN कनेक्शनों का उपयोग करने की अनुमति देना, या इसे एक प्रकार प्रदान करके जुड़े नेटवर्क की मदद करना। फ़ायरवॉल और अपने आंतरिक आईपी पते को छुपाता है।

संबंधित फुल फॉर्म

  • Posts not found

Similar Posts